योग कोई धर्म या राजनीतिक गतिविधि नहीं, बल्कि विज्ञान है: नायडू


कोयंबटूर। उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने शुक्रवार को कहा कि योग कोई धर्म या राजनीतिक गतिविधि नहीं, बल्कि विज्ञान है। नायडू ने यहां ईशा योग केंद्र में आयोजित महाशिवरात्रि उत्सव में कहा, ‘‘विश्व को और खुशहाली की आवश्यकता है और भगवान शिव हमें यही सिखाते हैं। आदियोगी ने ही मानवता को सबसे पहले योग विज्ञान दिया था।’’



 


उन्होंने कहा कि आदियोगी एक प्रेरणा हैं, वह योग का प्रतिनिधित्व करते हैं और योग कोई आस्था नहीं, बल्कि स्वयं को बदलने की तकनीक है। उन्होंने कहा, ‘‘योग कोई धर्म नहीं, बल्कि विज्ञान है। अब समय आ गया है कि हम योग की ओर लौटें।’’ नायडू ने कहा, ‘‘मैं खुश हूं कि प्रधानमंत्री नरेंद्र भाई मोदी ने योग को संयुक्त राष्ट्र ले जाने की पहल की। अब योग का प्रसार बढ़ रहा है। इसका श्रेय प्रधानमंत्री की पहल को जाता है।’’


Popular posts
मौलाना साद ने दिल्ली पुलिस से मांगी FIR की कॉपी, पूछा- कोई नयी धारा जुड़ी है?
Image
कोरोना वायरस कोविड-19 संक्रमण-दैनिक सूचना, मेडिकल हेल्थ बुलेटिन
उत्तराखण्ड राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण नैनीताल के दिशा-निर्देशों के क्रम में
Image
14 अगस्त 2020 को देशभर के कर्मचारी अधिकार दिवस मनाएंगे।
परियोजना मंत्री श्री सतपाल महाराज ने 13 डिस्ट्रिक्ट 13 डेस्टिनेशन के तहत चयनित सतपुली में पर्यटन विभाग की 40 शैय्या वाले आवास गृह एवं विवाह समारोह मल्टीपरक हाल के निर्माण कार्य का विधिवत् भूमि पूजन कर शिलान्यास किया
Image