सूचना आयोग ने गुरु जम्भेश्वर यूनिवर्सिटी को चेतावनी के साथ दिए पूरी सूचना देने के आदेश

जगाधरी निवासी डॉ. एस. गर्ग को पता चला कि गुरु जम्भेश्वर यूनिवर्सिटी ऑफ़ साइंस एंड टेक्नोलॉजी, हिसार में लगे ट्रेनिंग एंड प्लेसमेंट अफसर संजय सिंह को हरियाणा सरकार के नियुक्ति पर रोक के आदेश के बावजूद गैर क़ानूनी तरीके से पिछले दरवाजे से यूनिवर्सिटी में नियुक्ति दी गई थी व उसके विरुद्ध छात्रों के भविष्य से खिलवाड़ करने पर क्रमश 150 व 170 छात्रों ने उपकुलपति टन्केश्वर कुमार सचदेवा व राज्यपाल आदि को लिखित शिकायत भी दी थी व यूनिवर्सिटी प्रशासन ने संजय सिंह का गैर क़ानूनी तरीके से तबादला किया था, जिसके चलते संजय सिंह के प्रयासों से पिछले तीन वर्षों में यूनिवर्सिटी में छात्रों के लिए आई कंपनियों व इसके लिए उसके द्वारा ली गई ड्यूटी लीव व भुगतान व उसकी की जगह हरियाणा स्कूल ऑफ़ बिज़नस में लगाये गए व्यक्ति को दी गई तनख्वाह बारे तथा संजय सिंह के दावे के आधार पर छपी उसकी एक प्रोफेसर द्वारा की गई पिटाई की खबर के चलते उसका स्वास्थ्य प्रमाण पत्र व उसकी चिकित्सा के लिए यूनिवर्सिटी द्वारा किए गए चिकित्सा बिलों के भुगतान की व यूनिवर्सिटी में हुई कुछ अन्य गैर क़ानूनी गतिविधियों की जानकारियां आरटीआई के अंतर्गत मांगी थी, परन्तु यूनिवर्सिटी के डिप्टी रजिस्ट्रार सत्यपाल, उपकुलपति कार्यालय, लेखा शाखा व स्थापना शाखा के अधिकारियों ने सूचना देने से इंकार कर दिया, जिस पर लगाई गई अपील पर यूनिवर्सिटी के रजिस्ट्रार ने सूचना न देने के फैसले को ठीक ठहरा दिया व आवेदक द्वारा हरियाणा सूचना आयोग में अपील दाखिल करने के बाद अपना फैसला सुनाया ! जब इस मामले की सुनवाई सूचना आयोग में श्रीमती रेखा बराक, आयुक्त के समक्ष लगी तो यूनिवर्सिटी ने आगे का समय मांग लिया व श्रीमती रेखा के रिटायर होने के उपरांत मामले की सुनवाई श्री के जे सिंह, आयुक्त के समक्ष लगी, तो यूनिवर्सिटी ने उनके विरुद्ध शिकायत करके मामला दूसरे सूचना आयुक्त को ट्रान्सफर करवाकर सुनवाई को स्थगित करवा लिया व जब मामले की सुनवाई आयुक्त श्री भूपिंदर धर्मानी के समक्ष तय हुई तो यूनिवर्सिटी के रजिस्ट्रार हरभजन बंसल ने फिर से दो माह के लिए सुनवाई टालने का आग्रह भेज डाला ! मामले में दिनांक 16.01.2020 को अपीलकर्ता, यूनिवर्सिटी के कानून अधिकारी विकास चौधरी, डिप्टी रजिस्ट्रार सत्यपाल व संजय सिंह की के तर्क सुनने के उपरांत आयोग ने यूनिवर्सिटी को आखरी मौका देते हुए मांगी गई सारी सूचना दिनांक 15.02.2020 तक आवेदक को देने के आदेश देते हुए चेताया कि कोताही होने पर दंडात्मक कार्यवाही आरम्भ की जाएगी व साथ ही आरटीआई के पालन के लिए सरकार द्वारा जारी हिदायतों के पालन के निर्देश दिए व यूनिवर्सिटी के रजिस्ट्रार को सही आदेश न देने व निर्धारित समय सीमा के बाद आदेश देने का दोषी पाते हुए भविष्य में सही रहने की ताकीद की व यूनिवर्सिटी के उपकुलपति को चार हफ़्तों में यूनिवर्सिटी में मौजूद आरटीआई से सम्बंधित सारा रिकॉर्ड वेबसाइट पर जनता के अवलोकन के लिए डालने के आदेश दिए !


Popular posts
उत्तराखण्ड राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण नैनीताल के दिशा-निर्देशों के क्रम में
Image
परियोजना मंत्री श्री सतपाल महाराज ने 13 डिस्ट्रिक्ट 13 डेस्टिनेशन के तहत चयनित सतपुली में पर्यटन विभाग की 40 शैय्या वाले आवास गृह एवं विवाह समारोह मल्टीपरक हाल के निर्माण कार्य का विधिवत् भूमि पूजन कर शिलान्यास किया
Image
पर्यटन के साथ ही आध्यात्मिक सुख भी मिलता है ऋषिकेश में
Image
मौलाना साद ने दिल्ली पुलिस से मांगी FIR की कॉपी, पूछा- कोई नयी धारा जुड़ी है?
Image
फांसी पर रोक लगाने से SC का इनकार, मंगलवार सुबह होगी निर्भया के दोषियों को फांसी
Image