NRC को लेकर कंफ्यूज SP नेता ने कह दिया, लिस्‍ट में राष्ट्रपतियों का बाहर कर दिया गया


एल.एस.न्यूज नेटवर्क, नयी दिल्ली। नागरिकता संशोधन कानून और नेशनल रजिस्टर आफ सिटीजन को लेकर देशभर में विरोध प्रदर्शन हो रहा है। जहां एक तरफ विपक्षी दलों की ओर से सीएए-एनआरसी को लेकर तमाम तरह के आरोप सरकार पर लगाए जा रहे हैं और मंशा पर सवाल उठाए जा रहे हैं। वहीं दूसरी तरफ बीजेपी की तरफ से सीएए और एनआरसी को लेकर तमाम मिथक और अफवाहों के दूर करने की कोशिश भी लगातार जारी है। सीएए और एनआरसी को लेकर अफवाहें और आधी- अधूरी जानकारी ने भी इस कानून को लेकर भ्रम की स्थिति पैदा करने में अहम रोल निभाया है। जिसका एक उदाहरण समाजवादी पार्टी के नेता के रूप में देखने को मिला।



दरअसल, पूर्व विधायक और सपा नेता उमेश चंद्र पांडेय ने सीएए और एनआरसी को काला कानून बताया और साथ ही सवाल उठाते हुए कहा कि एआरसी के तहत देश के राष्ट्रतियों तक के नाम सूची से बाहर कर दिए गए। जवाब में मीडिया द्वारा राष्ट्रपति के नाम पूछे जाने पर वो निरूत्तर हो गए। बता दें कि उमेश चंद्र पांडेय बसपा के टिकट पर जो बार विधायक रह चुके हैं और हाल ही में समाजवादी पार्टी में शामिल हुए हैं। 


Popular posts
राष्ट्रीय स्वंय सेवक संघ का निमंत्रण प्रणव दा द्वारा स्वीकार करने पर कांग्रेस पार्टी ही नहीं पूरा विपक्ष असमंजस में था।
Image
उत्तराखण्ड राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण नैनीताल के दिशा-निर्देशों के क्रम में
Image
परियोजना मंत्री श्री सतपाल महाराज ने 13 डिस्ट्रिक्ट 13 डेस्टिनेशन के तहत चयनित सतपुली में पर्यटन विभाग की 40 शैय्या वाले आवास गृह एवं विवाह समारोह मल्टीपरक हाल के निर्माण कार्य का विधिवत् भूमि पूजन कर शिलान्यास किया
Image
सुब्रमण्यम स्वामी ने सरकार पर उठाए सवाल, GST को बताया 21वीं सदी का सबसे बड़ा पागलपन
Image
जिलाधिकारी मंगेश घिल्डियाल की अध्यक्षता में जनता दरबार का आयोजन किया गया
Image