केंद्र ने राजीव गांधी हत्याकांड की दोषी नलिनी की याचिका का विरोध किया


चेन्नई। केंद्र ने बृहस्पतिवार को मद्रास उच्च न्यायालय में अपने इस रुख को दोहराया कि राजीव गांधी हत्याकांड के दोषियों को उनकी सहमति के बिना मुक्त नहीं किया जा सकता है। इसके साथ ही केंद्र ने कहा कि दोषियों की समय से पहले रिहाई के लिए तमिलनाडु मंत्रिमंडल की सिफारिश का  शून्य  प्रभाव होगा।



 


न्यायमूर्ति आर सुब्बैया और न्यायमूर्ति आर पोंगियाप्पन की पीठ के समक्ष अतिरिक्त सॉलीसीटर जनरल (एएसजी) जी राजगोपालन ने ये दलीलें दीं। अदालत आजीवन सजा पाने वाले सात दोषियों में एक नलिनी की याचिका पर सुनवाई कर रही है, जिसने अपनी गिरफ्तारी को गैरकानूनी घोषित करने की मांग की थी।

 

 

पीठ ने सभी पक्षों की दलीलों पर गौर किया और इस याचिका पर अपना फैसला सुरक्षित रखा। एएसजी ने नलिनी की याचिका का विरोध करते हुए उच्चतम न्यायालय के एक आदेश का हवाला दिया और कहा कि जब तक राज्यपाल के नाम पर कोई आदेश नहीं होगा, यह गिरफ्तारी गैरकानूनी नहीं है। उन्होंने कहा कि राज्य मंत्रिपरिषद द्वारा पारित प्रस्ताव आदेश (रिहाई के लिए) नहीं है।

Popular posts
उत्तराखण्ड राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण नैनीताल के दिशा-निर्देशों के क्रम में
Image
परियोजना मंत्री श्री सतपाल महाराज ने 13 डिस्ट्रिक्ट 13 डेस्टिनेशन के तहत चयनित सतपुली में पर्यटन विभाग की 40 शैय्या वाले आवास गृह एवं विवाह समारोह मल्टीपरक हाल के निर्माण कार्य का विधिवत् भूमि पूजन कर शिलान्यास किया
Image
दिल्ली हिंसा में अबतक 1300 लोग गिरफ्तार, कड़ी सुरक्षा के बीच छात्रों ने दी बोर्ड परीक्षा
Image
पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के स्वास्थ्य में कोई बदलाव नहीं, अभी भी वेंटिलेटर पर
Image
PM मोदी का संबोधन आत्मनिर्भर भारत के संकल्प को मजबूती देने वाला है: राजनाथ सिंह
Image