चोपटा . प्रकृति जो करे थकान का निदान,उत्तराखंड का मिनी स्विट्ज़रलैंड


चोपटा एक खूबसूरत पहाड़ी है जो की उत्तराखंड के रूद्रप्रयाग जिले में समुद्री तल से 2680 मीटर की ऊंचाई पर स्थित स्टेशन है। इस गंतव्य को मिनी स्विट्ज़रलैंड के नाम से भी जाना जाता है।


इसे ये उपाधि अपनी लुभावनी प्राकृतिक सुंदरता और हरे भरे घास के मैदानों जिसे बुग्यल्स भी कहा जाता है के लिए मिली है। पर्यटक यहाँ से चौखम्बा त्रिशूल और नंदा देवी जैसी पर्वत श्रृंखलाओं का शानदार नजारा देख सकते हैं। यह जगह तुंगनाथ मंदिर के लिए प्रसिद्ध है जो कि हिंदू भगवान शिव को समर्पित है।


यह प्राचीन मंदिर तुंगनाथ माउंटेन रेंज में स्थित है जो की समुद्र के स्तर से 3680 मीटर की ऊंचाई पर है और दुनिया में सबसे ज्यादा ऊँचाई पर स्तिथ शिव मंदिर के रूप में जाना जाता है। हिंदूओं कि पौराणिक कथाओं के अनुसार यह वही जगह है जहाँ रावण जो की हिंदू महाकाव्य रामायण में विरोधी हैए अपने पापों का प्रायश्चित्त करता है। चोपटा से 3.5 किमी की ट्रैकिंग कर के तुंगनाथ मंदिर पहुंचा जा सकता है।


चोपटा के आस पास के स्थान केदारनाथ मंदिर एक और लोकप्रिय धार्मिक आकर्षण है जो कि मंदाकिनी नदी के पास स्थित है। यह मंदिर पंच केदार में से एक है जो कि हिंदुओं के लिए एक प्रमुख धार्मिक केंद्र है। मंदिर में प्रतिष्ठापित शिवलिंग 12 ज्योतिर्लिन्गास में से एक है। इसके अतिरिक्त इस मंदिर में भगवन शिव की लगभग 200 मूर्तियाँ हैं।


मध्यमहेश्वर मंदिर, कल्पेश्वर मंदिर और कंचुला कोरक कस्तूरी मृग अभयारण्य इस गंतव्य के अन्य विख्यात पर्यटकों के आकर्षण का केंद्र हैं।


कैसे जाएं चोपटा


वनस्पतियों और जीव से भरपूर चोपटा सैलानियों को बड़ी संख्या में, विशेष रूप से प्रकृति प्रेमियों को अपनी तरफ आकर्षित करता है। इसके अलावा यह जगह पंच केदार की तरफ ट्रेक करने वालों के लिए एक आधार शिविर के रूप में कार्य करती है। यात्रि वायु, रेल और सड़क मार्ग से चोपटा तक पहुँच सकते हैं।


देहरादून में स्तिथ जॉली ग्रांट हवाई अड्डा चोपटा से 226 किमी की दूरी पर स्थित सबसे निकटतम हवाई अड्डा है। इस हवाई अड्डे को नई दिल्ली में इंदिरा गांधी अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे से अच्छी तरह से नियमित उड़ानें द्वारा जोड़ा गया है। चोपटा के लिए सबसे नजदीकी रेलवे स्टेशन ऋषिकेश में स्थित है। चोपता पहुचने के लिए यात्री हरिद्वार] देहरादून और ऋषिकेश से बस सेवाओं का लाभ उठा सकते हैं। चोपटा जाने का सबसे अच्छा समय मानसून और गर्मियों के मौसम को इस खुबसूरत हिल स्टेशन की यात्रा के लिए सबसे अच्छा माना जाता है। भारी बर्फबारी के कारण यात्रियों को सर्दियों के समय यहाँ की यात्रा करने से बचना चाहिए।


स्नो होली कर्यक्रम टूरिज्म एण्ड वाईल्ड लाईफ एवं चार धाम ट्रैवल्स के सहयोग से 7 मार्च से 13 मार्च 2020 तक आयोजित किया जा रहा है। इच्छुक पर्यटक रिषिकेश से पिकअप प्राप्त कर सकते हैं।



chardhamtravels45@gmail.com 8527450818


Popular posts
कोरोना वायरस कोविड-19 संक्रमण-दैनिक सूचना, मेडिकल हेल्थ बुलेटिन
पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के स्वास्थ्य में कोई बदलाव नहीं, अभी भी वेंटिलेटर पर
Image
PM मोदी का संबोधन आत्मनिर्भर भारत के संकल्प को मजबूती देने वाला है: राजनाथ सिंह
Image
चम्बल में घड़ियालों के अलावा डॉल्फिन, ऊदबिलाव, कछुए, मछली एवं अन्य जलीय जंतु पर्यटकों के आकर्षण का केंद्र
Image
परियोजना मंत्री श्री सतपाल महाराज ने 13 डिस्ट्रिक्ट 13 डेस्टिनेशन के तहत चयनित सतपुली में पर्यटन विभाग की 40 शैय्या वाले आवास गृह एवं विवाह समारोह मल्टीपरक हाल के निर्माण कार्य का विधिवत् भूमि पूजन कर शिलान्यास किया
Image