दो करोड़ से ज्यादा मामले निचली अदालतों में लंबित हैं


दो करोड़ से ज्यादा मामले निचली अदालतों में लंबित हैं


देश की निचली अदालतों में दो करोड़ से ज्यादा 2014 में निचली अदालतों ने एक करोड़ 90 लाख 19 मामले लंबित हैं जिनमें से दस फीसदी से ज्यादा दस हजार 658 मामलों का समाधान किया। उन्होंने कहा वर्षों से लंबित हैं। यह जानकारी कानून मंत्रालय के था कि 24 उच्च न्यायालयों ने 2014 में 17 लाख 34 आंकड़ों में दी गई है। राष्ट्रीय न्यायिक डाटा ग्रिड की हजार 542 मामलों का निष्पादन किया। दिसम्बर वेबसाइट पर उपलब्ध आंकडे के मताबिक 31 दिसम्बर 2014 के अंत तक उच्च न्यायालयों में करीब 41.53 2015 तक विभिन्न राज्यों की जिला अदालतों में कुल लाख मुकदमे लंबित थे। उच्चतम न्यायालय ने पिछले दो करोड़ 60 हजार 998 मामले लंबित हैं। __ वर्ष एक दिसम्बर तक 44 हजार 90 मामलों का इनमें से 83 लाख 462 या 41,38 फीसदी मामले दो निपटारा किया जबकि वहां पर दिसम्बर 2015 की वर्षों से कम समय से लंबित हैं। साथ ही 21 लाख 72 शुरूआत तक 58 हजार 906 मामले लंबित थे। लंबित हजार 411 या 10 , 83 फीसदी मामले दस वर्षों से मामलों के बारे में कानून मंत्रालय का कहना है कि इस ज्यादा समय से लंबित हैंक्षेत्र में नीति निर्माता जो सबसे बड़ी समस्या का जस्टिस डिलिवरी एंड लीगल रिफॉर्स पर कानून सामना कर रहे हैं वह है किसी मानदंड का नहीं मंत्रालय की तरफ से गठित उच्चस्तरीय बैठक के होनाष्ष् जिससे पता लगाया जा सके कि कब किसी लिए तैयार किए गए नोट में यह जानकारी मौजूद है। मामले को विलंबित समझा जाए । नोट में कहा गया है बैठक अगले हफ्ते होगी। एनजेडीजी के वेबसाइट पर उदाहरण के लिए अगर किसी मामले के शुरू होने के मौजूद आंकड़े का हवाला देते हुए नोट में स्पष्ट किया एक वर्ष के अंदर निपटारा नहीं होता है तो क्या इसे गया है कि इसमें देश की सभी अदालतों को शामिल विलंबित समझा जाए? नहीं किया गया है। कानून विभाग समय-समय पर विलंब का मानदंड नहीं होने से मुद्दे के समाधान के 24 उच्च न्यायालयों और उच्चतम न्यायालय से लंबित लिए नीति बदलाव का निर्धारण करने में बाधा उत्पन्न मामलों के आंकड़े एकत्रित करता हैआंकड़े में कहा करता है। इसने कहा कि लंबित मामलों की संख्या गया है कि 36 लाख 30 हजार 282 या 18.1 फीसदी घटाने के लिए न्यायाधीशों की संख्या में कमी लाना या मामले पांच से दस वर्षों से लंबित हैंदो से पांच वर्षों अतिरिक्त पीठ का निर्माण करने का प्रयास होता है से लंबित मामलों की संख्या 59 लाख 83 हजार 862 और जब इस बात पर असहमति नहीं है कि या कुल मामलों का 29,83 फीसदी है। न्यायाधीशों की संख्या बढ़ाने की जरूरत है तो यह कानून मंत्री डी.वी. सदानंद गौड़ा ने दिसम्बर में लंबित मामलों की संख्या घटाने का एकमात्र उपाय लोकसभा को दिए लिखित जवाब में कहा था कि नहीं है


Popular posts
कोरोना वायरस कोविड-19 संक्रमण-दैनिक सूचना, मेडिकल हेल्थ बुलेटिन
पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के स्वास्थ्य में कोई बदलाव नहीं, अभी भी वेंटिलेटर पर
Image
PM मोदी का संबोधन आत्मनिर्भर भारत के संकल्प को मजबूती देने वाला है: राजनाथ सिंह
Image
चम्बल में घड़ियालों के अलावा डॉल्फिन, ऊदबिलाव, कछुए, मछली एवं अन्य जलीय जंतु पर्यटकों के आकर्षण का केंद्र
Image
परियोजना मंत्री श्री सतपाल महाराज ने 13 डिस्ट्रिक्ट 13 डेस्टिनेशन के तहत चयनित सतपुली में पर्यटन विभाग की 40 शैय्या वाले आवास गृह एवं विवाह समारोह मल्टीपरक हाल के निर्माण कार्य का विधिवत् भूमि पूजन कर शिलान्यास किया
Image